गेहूं की खरीद के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का रखा जाएगा खास ख्याल। 1950 रूपये प्रति क्विंटल के हिसाब से होगी गेंहू की खरीद। 

समाचार निर्देश गुरूग्राम  राजेन्द्र कुमार होटला – गुरूग्राम जिला में 20 अप्रैल से गेंहू की खरीद का कार्य शुरू होने जा रहा है। जिला में गेंहू की खरीद 5 मंडियांे तथा 11 खरीद केंद्रों में की जाएगी, जहाँ पर खरीद को लेकर  सभी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं।यह जानकारी आज गुरुग्राम के उपायुक्त अमित खत्री ने खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पी के दास को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान दी। श्री दास आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गेहूं की खरीद को लेकर की गई तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे।इस अवसर पर उनके साथ कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल, हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के मुख्य प्रशासक डॉ जे गणेशन  भी उपस्थित थे।गेहूं की खरीद संबंधी तैयारियों की जानकारी देते हुए उपायुक्त श्री अमित खत्री ने बताया कि गेंहू की खरीद गुरुग्राम जिला की  पांच मंडियो नामत: फरुखनगर, हेली मंडी ,सोहना, खोड़ तथा गुरुग्राम मंडी में की जाएगी। उन्होंने बताया कि गेहूं की खरीद को लेकर मंडियों के अलावा अलग से खरीद केंद्र भी बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि फरुखनगर में मंडी के अलावा 5  , सोहना में एक तथा पटौदी में 5 खरीद केंद्र बनाए गए हैैं।किसानों को  गेहूं की खरीद के लिए उन द्वारा ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ में भरी गयी भरी गई जानकारी के आधार पर कूपन दिए गए हैं  ताकि सभी किसान एक साथ अपनी उपज मंडियों में ना लेकर आएं और निर्धारित तिथि के अनुसार ही किसान क्रमवार अपनी  उपज मंडियों में लेकर आएं। सभी किसानों को भुगतान की राशि सीधे उनके अकाऊंट में की जाएगी। श्री खत्री ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार द्वारा मंडी में गेंहू की फसल लाने वाले किसानों की  संख्या निर्धारित की गई है। राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देश अनुसार मंडी में सभी किसानों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने पर बल दिया गया है। जिस किसान को फसल बेचनी है, केवल वही किसान निर्धारित तिथि को मंडी में आए । वह अपने साथ किसी भी अन्य व्यक्ति को ना लेकर आए। किसान अपनी उपज  साफ-सुथरी व सुखाकर लाए। राज्य सरकार द्वारा गेंहू का न्यूनतम समर्थन मूल्य ₹ 1925 प्रति क्विंटल रखा गया है।उन्होंने बताया कि निर्धारित मानदंडानुसार गेंहू में नमी की मात्रा 12 प्रतिशत से अधिक नही होनी चाहिए। उन्होंनेे बताया कि एक अध्ययन के अनुसार जिला में लगभग 45 हज़ार हेक्टेयर भूमि पर गेहू की बिजाई की गई है। इस लिहाज से 18 से 20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर गेंहू की उपज होने का अनुमान है। उन्होंनेे बताया कि मेरी फसल मेरा  ब्यौरा पोर्टल पर जिला के 6444 किसानो ने 29,596 एकड़ पर गेंहू की फसल के लिए अपना रजिस्ट्रेशन किया है। जिला में सबसे अधिक रजिस्ट्रेशन पटौदी से 2,626 किसानों ने 11,578 एकड़ गेहूं की फसल के लिए किया है। उन्होंंने बताया कि कोविड-19 संक्रमण के चलते 20 अप्रैल को मंडियों में प्रत्येक शिफ्ट के दौरान किसानों की संख्या 50 रहेगी। उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि वे मंडी में गेंहू को सुखाकर लाएं ताकि गेंहू में नमी की अधिकता से उन्हें कोई परेशानी ना हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

समाचार निर्देश न्यूज़पेपर के लिए आवश्यकता है पूरे भारत के सभी जिलो से अनुभवी ब्यूरो चीफ, पत्रकार, कैमरामैन, विज्ञापन प्रतिनिधि की। आप संपर्क करे मो० न० 9654140328
%d bloggers like this: