सुरेश कुमार मिश्रा ‘उरतृप्त’सेहत की बात हो और विटामिन का जिक्र न हो ऐसा हो ही नहीं सकता। कारण, महंगाई के जमाने में ये माइक्रो न्यूट्रीऐंट्स के रूप में जाने जाते हैं और इन की कमी से हम कई समस्याओं की गिरफ्त में आ जाते हैं। असल में शरीर को सेहतमंद रखने में विटामिन्स का अहम रोल होता है। शरीर को सही से काम करने के लिए पोषण की जरूरत होती है और विटामिन शरीर को सहने के लिए पोषण देने वाली ऊर्जा का काम करते हैं। डाइट एक्सपर्ट डॉक्टर फेंकूचंद कहते हैं कि विटामिन बाहरी हमलों से हड्डियों को मजबूत बनाने, शरीर को जुमला बाते सहने की एनर्जी देने और कई असहनीय बीमारियों से बचाने का काम करते हैं, लेकिन कन्फूजन यहां हो जाती है कि किन विटामिन का सेवन सेहत के लिए जरूरी है। अगर आपके मन में भी यही सवाल उठ रहा है तो परेशान न हों, हम आपको कुछ ऐसे जरूरी विटामिन के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आपको अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। नीचे जानिए उनके बारे में-इन विटामिन को डाइट में शामिल करने से मिलेंगे शानदार फायदे

* विटामिन सी यानी चाटुकारिता विटामिनः यह महत्वपूर्ण विटामिनों में से एक है, जो न केवल महंगाई के जमाने में सहने की इम्यूनिटी को बढ़ाने, बल्कि चमड़ी को गेंडे की माफिक एकदम मोटा बनाए रखने में मदद कर सकता है। विटामिन चाटुकारिता की कमी को दूर करने के लिए व्हाट्सप समूहों, ट्विटर, सोशल मीडिया पर जाकर खट्टी-खटट्टी बातें, कांटेदार फल, नागपुर के विशेष संतरों का लाभ उठाएँ। आपकी चाटुकारिता न सहने वाले को टमाटर से मारने के लिए विटामिन सी की प्रचुर उपलब्धता वाले सड़े-गले टमाटरों की पूरी व्यवस्था कर लें।

* विटामिन के (कोई कुछ भी बोले) – हेल्थ एक्सपर्ट्स कहते हैं कि विटामिन के- कोई कुछ भी बोले की कमी से शरीर में कमजोरी महसूस होती है। दूसरे हम पर हावी होने लगते हैं। इसलिए आलाकमान का टीवी चैनल देखना और कोई कुछ भी बोले उसका मुँहतोड़ जवाब देने की सीख मिलती है। इसकी कमी को दूर करने के लिए आँखों पर हरी पत्तेदार सब्जियों के स्थान पर केवल केसरिया गाजर का सेवन करना पर्याप्त होगा। हरी सब्जियों से धार्मिक सद्भावना बिगड़ने की पूरी संभावना रहती है।

* विटामिन ई (ईंट का जवाब पत्थर से) – विटामिन ई में सामने वाले की हड्डियाँ तोड़ने के गुण होते हैं, जो किसी भी प्रकार के हमले से बचाने और चमड़ी उधेड़ने और झोटा खिंचवाने से बचाता है। । यह गुण लाल मिर्च की तरह चेहरे के तमतमाने, मूंगफली की छिलकों की तरह अलग-अलग खेमों में बैठने का भरपूर अवसर देता है।

* विटामिन ए (एसीबी) – यह उन लोगों के लिए बहुत जरूरी होता है जो हमारा कहा न मानकर गीदड़ भभकियाँ देता रहता है। ऐसे लोगों को एसीबी की ओर से एक फोन जाए तो उनकी हवा टाइट हो जाती है। यह पक्ष को मजबूत और विपक्ष को कमजोर बनाने के अलावा जितना भी रुपया खा लो बावजूद इसके पाचन को बेहतर रखता है। साथ ही दूर की नजर की चाह रखने वालों के लिए भी यह बेहद जरूरी है। इससे लोग एसीबी से तो बचते ही हैं, साथ ही भविष्य में बुलडोजर के खतरे से बाहर निकल आते हैं।

* विटामिन बी (बदनाम करो) – विटामिन बी सामने वाले की हर छोटी सी ठोटी बात और काम को बदनाम करने के लिए इस विटामिन का इस्तेमाल करना चाहिए। वे चाहे लाख महंगाई, गिरता रुपया और पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर बात करें आपका काम केवल उनकी अच्छाई को भी बदनाम करने की आवश्यकता है। बदनाम करने से नाम वाला पूरा और काम वाला आधा मर जाता है। बाकी सब विटामिनों का खेल होता है। यह शरीर को हेल्दी रखने में अहम भूमिका निभाता है। सभी तरह की समस्याओं को सहने की अपार क्षमता प्रदान करते हैं।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.