समाचार निर्देश ब्यूरो एस डी सेठी – दिल्ली के कंझावला स्थित निजाम पुर गांव में मां  स्वर्गीय सरजू देवी की स्मृति में 14-15 मई को मंहंत चरण दास ने विशाल संत समागम के तहत शब्द कीर्तन एवं भंडारे का आयोजन किया गया। इस समागम में  आसपास के  करीब 50 गांवों की महिलाओं के अलावा हरियाणा, पंजाब, उत्तरप्रदेश और राजस्थान से भी सैंकडों संतों ने संत समागम में शिरकत की। इस अवसर पर मंहत चरणदास ने पधारे संत संगत को शाॅल औढाकर कर सम्मानित किया। सम्मानित संतों में जींद हरियाणा के सूर्य देव आर्य, समाजिक कार्यकर्ता रामफल दहिया, स्वामी साधु समाज के पदाधिकारियों व पत्रकार राजवरत आर्य, सुल्तान सिंह चौपडा, मुकेश साद राजपाल,बालकिशन, तेज निरवाल, प्रधानाचार्य महेंद्र सिंह, धर्मवीर आर्य, जसवंत सिंह अहीरमाजरा एंव अनेक गणमान्य नागरिकों ने हिस्सेदारी कर कार्यक्रम को जीवंत किया।  समाधि स्थल फाऊंडेशन के संस्थापक रिटायर्ड राजपत्रित अधिकारी मंहत चरणदास द्वारा अपने पूर्वजों की स्मृति में जो समस्त निर्माण कार्य अपने फंड बूते से किया है। महंत चरण दास ने बताया कि समाधि भवन निर्माण की लागत करीब 125 करोड आई है। यह स्माधियां ऐतिहासिक वर्ष 1747 का पुनरुद्धार किया गया है। इसका मकसद पूर्वजों का सम्मान करना है। साथ ही कबीर पंथियों, समाज सुधारकों को भी एक साथ जोडना हैं। संत समागम व भंडारे का आयोजन हर सप्ताह रविवार को किया जायेगा। 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.