• सिंचाई विभाग ने गिराने के लिए चस्पा किये गरीबों के मकानों पर नोटिस
  • मकान नहीं गिराने के भरोसे से गदगद गरीबों ने की विधायक सुरेन्द्र मैथानी की जयकार


सुनील बाजपेईकानपु – यहां सिचाई विभाग की जमीन पर सालों से रह रहे सैकड़ों गरीब अब बुल्डोजर चलने की नोटिस दिये जाने से बहुत भयभीत हैं। इस समस्या को लेकर वह गोविन्द नगर के विधायक सुरेन्द्र मैथानी के पास पहुंचे। जहां विधायक मैथानी ने उन्हें मकान नहीं गिराये जाने का पक्का भरोसा भी दिया। इससे गदगद हुए गरीबों ने विधायक सुरेन्द्र मैथानी की जमकर जय जयकार भी की।
कुल मिलकर संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में सर्वाधिक मत प्रतिशत से विजई होने के रूप में गोविंद नगर से दूसरी बार विधायक चुने गए सुरेंद्र मैथानी पहले की ही तरह समस्याओं के खिलाफ और जनता के हित में पूर्ण रूप से लगातार सक्रिय हैं। और उनके पास अपनी समस्या लेकर जो भी आता है वह उसके निस्तारण होने के रूप में खुश होकर ही जाता है।
अपने गोविंद नगर विधानसभा क्षेत्र में सर्वांगीण विकास के साथ ही व्यक्तिगत तौर पर भी लोगों की समस्याओं के निस्तारण के प्रति विधायक सुरेंद्र मैथानी का यह समर्पण कोई नया नहीं है। वह जब विधायक नहीं थे। केवल जिला अध्यक्ष भाजपा के रूप में ही पार्टी की सेवा कर रहे थे। तब भी वह इसी तरह से जनसमस्याओं के निस्तारण में अपनी अहम भूमिका निभाकर जनता के बीच लोकप्रिय थे और जब इसके बाद उपचुनाव में वह गोविंद नगर के विधायक बन गए तो अधिकार संपन्नता वाली उनकी विधायकी ने उन्हें पहले से और भी ज्यादा सक्रिय कर दिया, जिसका परिणाम यह हुआ कि सब कुछ ऐतिहासिक जैसा रहा । वह चाहे विकास का मामला हो या फिर अन्य जन समस्याओं के निस्तारण का।
2022 का विधानसभा चुनाव संपन्न होने तक विधायक सुरेंद्र मैथानी इन सबमें अव्वल ही साबित हुए और जिससे पैदा हुए भारी जन स्नेह ने उन्हें कानपुर में सर्वाधिक मतों से गोविंद नगर का दोबारा विधायक भी बनवा दिया, जिसके बाद उन्होंने पहले की ही तरह लोगों की समस्याओं का निस्तारण करने का सफल अभियान शुरू कर रखा है।
जनहित के प्रति उनकी कर्तव्य निष्ठा के पूर्ण समर्पण का सहज अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि विधायक सुरेंद्र मैथानी एडवोकेट आम जनता को अपनी समस्याओं के खिलाफ प्रतिदिन आमंत्रित करते हैं। इसमें उनका मनोभाव एक विधायक का ना हो कर बल्कि जनता के वास्तविक सेवक के रूप को प्रमाणित करता है।
इसी क्रम में उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत नहर कोठी नौरैया खेड़ा के पास नहर के ऊपर चौपाल लगा करके आम गरीबों एवं जरूरतमंदों की समस्याओं के निराकरण के लिए उनको सुना जो समस्याएं आई मौके से ही संबंधित विभाग/ अधिकारी से वार्ता कर दूर कराने का प्रयास किया।
चौपाल में मुख्य रूप से बस्ती वालों ने सिंचाई विभाग के द्वारा बस्तियों को गिराए जाने की चस्पा की गई नोटिसो पर आक्रोश व्यक्त किया।विधायक ने मौके से ही सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता मोहम्मद यासीन से टेलीफोन से बात कर उनको इस संबंध में फटकारा और कहा जिन बस्तियों में वर्षों पुराने रोड, नाली, खड़ंजा, मार्ग प्रकाश, बिजली के कनेक्शन, पानी के कनेक्शन, सीवर लाइन, सारी कुछ व्यवस्थाएं पूर्ण है, उन पर अब इस तरह का प्रश्न उठाने का क्या औचित्य है? ऐसे लोगों को नोटिस देना बिल्कुल अनुचित है।
विधायक ने सिंचाई विभाग के मोहम्मद यासीन से सार्वजनिक रूप से टेलीफोन पर बात करके कहा कि शाशनादेश को पढ़ लें,क्योंकि माननीय मुख्यमंत्री जी का स्पष्ट निर्देश है कि किसी भी गरीब के मकान पर बुलडोजर नहीं चलेगा। बुलडोजर अपराधियों के लिए, भू माफियाओं के लिए, भ्रष्टाचारियों के लिए और गुंडों के लिए है। अतः हम अपने विधानसभा क्षेत्र में, उसका अनुपालन कराएंगे। उन्होंने कहा कि गरीब के मकान पर, किसी भी कीमत पर, मेरी विधानसभा क्षेत्र में, बुलडोजर नहीं चलेगा।
याद रहे कि बीते उप चुनाव में गोविंद नगर से विधायक चुने जाने के बाद कठोर परिश्रम के साथ बहुत समर्पित भाव से जन सेवा में लगातार जुटे रहे तेजतर्रार और व्यवहार कुशल भारतीय जनता पार्टी से दूसरी बार चुने गए विधायक सुरेंद्र मैथानी एडवोकेट को गोविन्द नगर विधान सभा क्षेत्र की बिजली ,पानी ,सीवर, सड़क आदि से जुड़ी समस्याओं को हल करने में बहुत महत्वपूर्ण पूर्ण और अभूतपूर्व सफलता भी मिली है। लगातार जुझारू संघर्ष में भी पीछे नहीं रहे हैं। और जनहित में उनका यह संघर्ष लगातार जारी भी है। इस तरह से किसी भी राजनीतिक दल के व्यक्ति के चुनाव हारने और जीतने के कारणों को दृष्टिगत रखते हुए आम जनता को ईश्वर, अल्लाह और गॉड मानकर यही कहा जा सकता है कि – जो जनहित में कदम बढ़ाता।निश्चय ईश कृपा भी पाता। जो परहित ना कदम बढ़ाए। वह निश्चय ढक्कन हो जाए।
उक्त चौपाल कार्यक्रम में प्रमुख रूप से विधायक सुरेंद्र मैथानी, नगर पार्षद दीपक सिंह, एवम अभिनव दीक्षित, अखिलेश पांडे, बीएन तिवारी, लल्लन सिंह, मंजू तिवारी, बड़कऊ, आदि प्रमुख आमजन मौजूद थे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.