पानीपत कमाल हुसैन – थाना समालखा प्रभारी इंस्पेक्टर नरेंद्र ने जानकारी देते हुए बताया कि रविन्द्र निवासी चुलकाना व उसके दो साथियों पर 7 मार्च को गांव पट्टीकल्याणा अड्डे पर जानलेवा हमला करने की वारदात में नामजद फरार चल रहे आरोपी सुनील उर्फ सोनी पुत्र मंगलू निवासी पट्टीकल्याणा को थाना समालखा पुलिस की टीम ने शुक्रवार देर साय मनाना मोड़ से गिरफ्तार किया। आरोपी के कब्जे से वारदात में प्रयोग किया गंडा बरामद कर व गहनता से पुछताछ उपरांत पुलिस टीम ने आरोपी को आज न्यायालय में पेश किया जहा से उसे न्यायिक हिरासत जेल भेजा गया। इंस्पेक्टर नरेंद्र ने बताया उक्त मामले में थाना समालखा पुलिस द्वारा आरोपी साहिल, नरेश, दिनेश व राकेश निवासी पट्टीकल्याणा को गत दिनो गिरफ्तार कर आरोपी साहिल के कब्जे से वारदात में प्रयोग की दराती व अन्य आरोपियों से डंडे बरामद कर चारो आरोपियों को न्यायिक हिरासत जेल भेजा जा चुका है। वारदात में संलिप्त फरार चल रहे अन्य आरोपियों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि थाना समालखा में 8 मार्च को रविन्द्र पुत्र नरेश निवासी चुलकाना ने शिकायत देकर बताया था कि करीब दो महिने पहले साहिल पुत्र नरेश निवासी पट्टीकल्याणा उससे दो भैस दो लाख रूपए में उधार में लेकर गया था। उसने साहिल से पैसे मांगे तो साहिल ने गुस्से में बात करते हुए कई बार पैसे देने के लिए करार किया। 7 मार्च को नरेश का उसके पास फोन आया और भैसो के पैसे पट्टीकल्याणा अड्डे पर आकर लेकर जाने बारे कहा। वह पैसे लेने के लिए उसके साथ कंपनी में काम करने वाले साथी ललीत पुत्र रकम सिंह व दीपक पुत्र जोगेंद्र को साथ लेकर साय करीब साढ़े 7 बजे पट्टीकल्याणा अड्डे पर पहुंचा तो नरेश अपने भाई दिनेश व उसके लड़के साहिल व सोनू पुत्र मंगलू व अन्य कई लड़को को साथ लेकर हथियारों से लैस होकर आया और आते ही मारपीट करनी शुरू कर दी। साहिल व सोनू ने उसको पकड़ लिया और दिनेश ने लड़को के साथ पीछे से उसके सिर पर गंडासी से चोट मारी। आरोपियों ने दीपक व ललीत को भी सिर में चोटे मारी। गांव वासियों को इक्कठा होते देख सभी आरोपी जान से मारने की धमकी देते हुए दीपक का अपहरण करके ले गए। गांव वालो ने ईलाज के लिए जिला के एक निजी अस्पताल में दोनो को भर्ती करवाया। थाना समालखा पुलिस ने रविंद्र की शिकायत पर नामजद व अन्य आरोपियों के खिलाफ जानलेवा हमला करने सहित विभिन्न धाराओं के तहत थाना समालखा में मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की धरपकड़ के प्रयास शुरू कर दिए थे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.