समाचार निर्देश एस डी सेठी – विश्व हिंदू परिषद के अलोक कुमार ने ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश से सहमति जताई और दावा किया कि हिंदू पक्ष यह साबित करने में सक्षम होगा कि पाया गया शिवलिंग 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि यह शिवलिंग है क्योंकि नंदी इसे देख रहे है। और स्थान से पता चलता है कि मूल ज्योतिर्लिंगों में से एक है। मुगलों ने मंदिर पर हमला किया। न्यायधीश को स्थानीय आयुक्त की रिपोर्ट लेने के लिए अधिकृत किया गया है। और हम साबित कर देंगें कि यह मूल ज्योतिर्लिंग है। विश्व हिंदू परिषद नेता ने आगे दावा किया कि 1991 का अधिनियम ज्ञानवापी मस्जिद मामले पर लागू नहीं  होगा। इससे पहले शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद मामले को सिविल जज से जिला जज वाराणसी को ट्रांसफर करने का आदेश दिया था। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड, सूर्यकांत और पीएस नरसिंह की पीठ ने आदेश दिया दिया कि उत्तर प्रदेश उच्च न्यायिक सेवा के एक वरिष्ठ और अनुभवी न्यायिक अधिकारी को मामले की जांच करनी चाहिये। पीठ ने कहा कि जिला जज को ज्ञानवापी काशी विश्वनाथ में दीवानी मुकदमें की सुनवाई प्राथमिकता के आधार पर तय करनी चाहिए। जैसा कि अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद व वाराणसी ने मांगा था। 

By admin

One thought on “ज्योतिर्लिंगों में से एक है ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में मिला शिवलिंग – वीएचपी”

Leave a Reply

Your email address will not be published.