समाचार निर्देश एस डी सेठी – देश में बढती बेरोजगारी, बेतहाशा महंगाई, रोज के जीवन यापन की वस्तुओं में उछाल लेती कीमतों को देशहित के नाम पर जनता को बेवाकूफ बनाने की नीती के खिलाफ वामदलों के बैनर तले नरेला में जबरदस्त विशाल नुक्कड़ सभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता ट्रेड यूनियन नेता डीएन सिंह ने की। सभा का संचालन फ्रंट के युवा नेता कामरेड सुरेंद्र पांचाल ने किया। विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए इंडियन पीपुल्स फ्रंट के नेता कामरेड नरेश गुप्त ने अपनी चिर-परिचित शैली में कहा कि सरकार किस तरह देशहित के नाम पर कमरतोड़ मंहगाई, रोजमर्रा के जरूरी सामानों में मनमानी कीमत बढोतरी कर आम जनता की कमर तोडने पर आमादा है। नरेश गुप्ता ने दावा करते हुए कहा कि यदि कुछ दिन ऐसा ही चलता रहा तो हमारे देश के हालात भी श्रीलंका जैसे हो जाएगें और हमें मदबूरन सडकों पर आ कर संघर्ष करना होगा। वहीं एक कदम आगे सीपीएम माले के नेता रवि दास ने कहा कि हमें सरकार एंव उसका मीडिया, मंदिर मस्जिद, धर्म कर्म, व पाप पुण्य की खोखली बहस में उलझा रहा है। ऐसे में वाम दलों के अलावा सभी राजनीतिक दल संघर्ष के रास्ते से कन्नी काट रहे हैं। आम जनता इस राष्ट्रहित की चक्की में पिस रही है। सीपीएम नेता विवेक श्रीवास्तव ने कहा कि इस कठिन दौर में मेहनतकश वर्ग पर दोहरी मार पड रही है। एक तो उन्हें न्यूनतम मजदूरी नहीं मिल रही है, दूसरी तरफ अतिक्रमण के नाम पर बुल्डोजरी हमले कर उनके कच्चे पक्के मकानों को तोडा जा रहा है। उन्हें ठीक से बुनियादी सुविधाएं तक मयस्सर नहीं हो रही हैं। सीपीआई के ही नेता सिदेश्वर शुक्ला ने कहा कि थाली आज केवल खाली बन कर रह गई है। जरूरी चीजों के दाम आसमान पर हैं जैसे सरसों तेल, गैस सिलेंडर, पैट्रोल समेत तमाम जरूरी चीजें पकड से बहार हो गए हैं। आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड के सदस्य मुफ्ती नसीम रहमानी ने कहा कि हमें जाति धर्म के सभी भेद भाव भुलाकर एकजुट होकर लडना होगा। अन्य वक्ताओं में प्रगतिशील लेबर फैडरेशन के नेता आर के मोरय, सुरेंद्र पांचाल, वहीं कलमकार राजवरत ने अपनी कविता में तेताया कि मेरे देश की जनता तुमको ज्यादा रूलायेंगें, चाय बेच कर आये थे, और देश बेचकर जाएंगें।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.