समाचार निर्देश एस डी सेठी – महाराष्ट्र की ढाई साल पुरानी उद्धव सरकार पर तीसरी बार सेना से बगावती तेवर के बाद संकट में घिर गई है। शिव सेना के एकनाथ शिंदे ने उद्धव से नाराज अपने बाकी विधायकों के साथ गुजरात के सूरत के होटल में भाजपा की शरण ली है। उधर उद्धव ने बाकी बचे विधायकों की आपात मीटिंग बुलाई। मीटिंग में मौजूद रहे करीब 18 विधायकों के बीच बाकी बचे सेना के विधायकों ने एकनाथ शिंदे को विधायक दल के नेता पद से हटा दिया है। वहीं शिदे ने ट्विट कर कहा कि हम बाला साहिब के सैनिक है। हमारी राहें हिंदुत्व हैं। अब इस ट्वीट से साफ है कि एकनाथ शिंदे और उनके साथ सूरत में ठहरे सभी सेना विधायकों ने अपने को अलग कर लिया है। इस बीच दिल्ली में मौजूद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने प्रैस कांफ्रेंस कर कहा कि हम भाजपा के साथ न जाकर विपक्ष में बैठने को तैयार है। दिल्ली में महाराष्ट्र के घटनाक्रम पर बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा और अमित शाह के साथ करीब घंटे भर मीटिंग हुई। इसके बाद ही महाराष्ट्र से दिल्ली पहुंचे बीजेपी के पूर्व सीएम दिल्ली में नेताओं से मंत्रणा कर सूरत के लिये रवाना हो गये। बागी एकनाथ शिंदे ने उद्धव से नाराज होने की वजह में कहा कि वह शरद पवार की सरकार में ज्यादा पावर से नाखुश है। साथ ही शिव सेना और बीजेपी के साथ सरकार चाहते है। देवेंद्र फण्डविस को सीएम बनाने की बात दोहराई है। वहीं एकनाथ शिंदे डिप्टी सीएम का पद दिया जाये। अब उद्धव फैंसला करें। वहीं इस घटना से सतर्क बीजेपी ने अपने सभी 105 विधायक को भी सूरत के होटल में बुला लिया। वजह पवार की सियासी चाल के चलते ही बीजेपी के विधायकों को महाराष्ट्र से शिफ्ट कर सूरत बुला लिया है। अभी तक के महाराष्ट्र विधान सभा में बीजेपी के 106, निर्दलीय 03, अन्य 16, के अलावा बागी 35 कुल हुए 160,। बहुमत के लिए चाहिये 145. अभी महाराष्ट्र विधानसभा में कुल सीट 288 है। इनकी संख्या बीजेपी – 106,शिवसेना 55,कांग्रेस – 44,एनसीपी54 और अन्य 28 है। अब इसी जोड तोड में बहुमत के लिए बीजेपी को 145 की संख्या तक पहुंचने के लिए शिव सेना के बागी विधायक मिलकर बीजेपी को बहुमत के करीब पहुंचाकर सरकार बना सकते हैं। सुबह से शाम तक बदले घटनाक्रम से तो साफ है कि उद्धव की सरकार की उल्टी गिनती शुरु हो गई है। अगर सब ठीक ठाक रहा तो कल तक तस्वीर साफ हो जाएगी। इस बीच कांग्रेस ने भी अपने विधायकों की टूट से रोकने के लिए कमल कांत को बतौर प्रवेषक महाराष्ट्र भेजा है। खबर लिखे जाने तक अंतिम फैसला नहीं हो पाया था।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.